In which round should Federer loose?

August 29th, 2013 by slash_blog

Declaring Roger Federer the GOAT has one pleasant side effect for Federer fans. Most people now include him in their all time top ten list. Anyway we all know that (if all goes as per the plans) Federer is slated to play Nadal in the QF at US Open 2013. We ask the all important question to our readers. Please answer sincerely – who knows Federer might come knocking at this webpage – and might benefit in forming a clearer picture of the way forward.

Related posts:

  1. Why Great Lord: Federer loose to Djokovic?
  2. A poll about rape victims
  3. How Old India Loves: The Over-60 Sex Survey
  4. Where should Roger Federer go shopping on Monday?
  5. A poll about Acid Attack Survivors

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

A poll about Acid Attack Survivors

July 22nd, 2013 by slash_blog

With recent Honourable Supreme Court judgement bringing to limelight the plight of Acid Attack Survivors, we turn to poll to gauge the public opinion:

BTW do remember they are beautiful from the insides. Though don’t take my word for it.

Related posts:

  1. A poll about rape victims
  2. How Old India Loves: The Over-60 Sex Survey

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

A poll about rape victims

March 13th, 2013 by slash_blog

First of all, lets all observe one minute’s silence for all the rape victims (right from the days of Adam till this last second just now).

Now to return to the poll. First of all (the second time), I must say, we at 69 solutions, appreciate M.A.R.D., just like all sensible beings of this planet. As a mark of appreciation, all members of 69 solutions team will abstain from raping women and respect them, for the next two days to come (and just to clarify, that is 13th and 14th of March 2013).

Now to the poll:

The second poll:

Related posts:

  1. How to help rape victim overcome trauma of being raped?
  2. How Old India Loves: The Over-60 Sex Survey
  3. A poll about Acid Attack Survivors
  4. In which round should Federer loose?
  5. As Anna Hazare’s fast enters its third day, does Anna Hazare require a Gandhian enema?

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Chance utterance leads to possibly greatest mathematical theory

March 12th, 2013 by slash_blog

It was just another occasion when Shravan Kumar made one of those dull statements, “the difference between an Amateur and Professional is that, while Professional makes money, Amateur doesn’t.

This seemingly innocent or even inane statement lead to one chance discovery of possibly the greatest mathematical theory ever discovered. Indeed, it is the humbleness of the author, that made him write the word “possibly,” and, in fact, it is indeed the greatest mathematical theory ever.

Now, to get back to the theory, the statement in bold above, by itself appears almost inane to the point of futility. However, when this is applied to Prostitutes an amazingly simple, yet elegant, theory appears.

Now we give the statement of the theory:

No prostitute can ever be Amateur, and the word Amateur can’t be used as an adjective for prostitutes.

And here is the elegant two liner proof:

A Prostitute, by definition accepts money for sex. Since an Amateur is defined as, a person who engages in a study, sport, or other activity for pleasure rather than for financial benefit or professional reasons, by definition a Prostitute can’t be Amateur.

Hence Proved.

No related posts.

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Tiku bhai’s comments on Urine drinking girl in Visva-Bharati

July 10th, 2012 by slash_blog

A trully disgusting, pervert Tiku bhai’s comments on HT.

Tiku bhai's comments.

This pervert Tiku thinks urine is salty. Is it always true, what about people with diabeties? We bring you this poll:

 

Related posts:

  1. Shower in Pee, save the world: Indian Group
  2. How Old India Loves: The Over-60 Sex Survey
  3. Sexy Aarushi Talwar: who should conduct the investigation now?
  4. I am Pervert! Not a gay!
  5. Abolish child pornography make Ana Kasparian show her breasts

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Where should Roger Federer go shopping on Monday?

September 11th, 2011 by slash_blog

Related posts:

  1. Why Great Lord: Federer loose to Djokovic?
  2. How Old India Loves: The Over-60 Sex Survey
  3. How to help rape victim overcome trauma of being raped?
  4. On which day Gandhiji never used to lie?
  5. As Anna Hazare’s fast enters its third day, does Anna Hazare require a Gandhian enema?

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

As Anna Hazare’s fast enters its third day, does Anna Hazare require a Gandhian enema?

April 7th, 2011 by slash_blog

Related posts:

  1. How Old India Loves: The Over-60 Sex Survey
  2. A poll about rape victims
  3. Why Great Lord: Federer loose to Djokovic?
  4. How to help rape victim overcome trauma of being raped?
  5. On which day Gandhiji never used to lie?

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

A story from other side

March 22nd, 2011 by slash_blog

In continuance of our efforts to show the other side of the story. Today we bring you a letter from a police constable, who refused to take bribe. Do read.

प्रिय मिर्त्रों,

सर्व-प्रथम तो इस वेब-साईट के निर्माता से मेरा विनम्र निवेदन है की इसे हिंदी भाषा में भी उपलब्ध कराएं. क्योंकि अंग्रेजी आम भारतीय की पहुँच से बाहर है. इसके अलावा एक और निवेदन ये है की, एक और स्तम्ब का अनावरण करें – जिसमें “मैंने रिश्वत नहीं ली” और इसी प्रकार की अन्य टिप्पणियाँ दी जा सकें.

खैर अब मैं अपनी आप बीती बतलाता हूँ. मै एक इमानदार पुलिस कोन्स्तिबल हूँ, और अपने उसूल का पक्का हूँ. मैंने जिस किसी काम के लिए भी आज तक रिश्वत ली है, उसे पूरण करके ही दम लिया है. इसके अलावा मैंने आज तक किसी काम की न्याजयज रिश्वत नहीं ली है. अगर आपके काम के १०० रूपये रिश्वत के बनते हैं, तो मैंने हमेशा १०० ही लिए हैं. कभी १०० का १०१ नहीं किया. खैर ये चरित्र चित्रण मैंने इसलिए किया की आपको बतला सकूं की रिश्वत के मामले में मै कितना उसूल का पक्का हूँ.

आज भी दिसम्बर २४ की वो सर्दी भरी रात याद है. रात के तीन बजे होंगे. मै आराम से पुलिस स्टेशन में सो रहा था. तभी अचानक फ़ोन की घंटी बजी. संषेप में बताऊं तो, एक पडोसी ने फ़ोन किया था की एक वृद्ध दम्पति की हत्या हो गयी है. खैर केस काफी साधारण सा था, नौकर ने सोने के गहने और नकद चुराने के एवज में ये हत्या की थी.

इससे पहले आप और आगे पढ़ें, आप से एक प्रशन पूछता हूँ. आपके ख्याल से हमने नौकर से क्या रिश्वत मांगी होगी? या कही हमने चोरी के गहने और नकदी ही तो कहीं हजम नहीं कर ली?

अब आपको और संशय की स्तिथि में ना रखते हुए बता दूं  की हम लोगो ने ना ही रिश्वत ली और ना ही गहने हजम किये. अब आप पूछेंगे क्यों? बताता हूँ, बताता हूँ, धीरज रखो.

हम पोलिसे-वालों का ये उसूल है की जो कोई समाज के लिए कोई अच्छा कार्य करता है उससे हम कभी रिश्वत नहीं लेते और ना ही किसी झूटे केस में फंसाते हैं. कम से कम मेरी जानकारी में तो सभी पोलिसे-वाले यही करते हैं.

जैसा की आप लोगो को विदित है, वृद्ध NPA (Non Performing Asset – अर्थशास्त्र से एक परिभाषा लेते हुए) होते हैं, अर्थात वो केवल समाज पर भोझ होते हैं. ख़ास तौर पे भारत सरकार की वर्तमान में अपनाई गयी योजनाओं और बजट में डाले गए प्रस्तावों के बाद तो किसी को भी इस बात में जरा भी संशय नहीं रह गया होगा, की हर एक मृत वृद्ध, एक बालक के चहरे पर मुस्कान ला सकता है.

जितना पैसा सरकार एक वृद्ध पर खर्चती है, उतना सरकार किसी छोटे बच्चे की पढाई पर इस्तेमाल कर सकती है. इसमें देश और समाज दोनों का लाभ है. बुड्ढ़े को स्वर्ग (या नरक) के द्वार पे पंहुचा देना समाज की प्रगति में सहायक है. किस देश में कितने वृद्ध प्रति व्यक्ति मरते हैं ये उस देश की प्रगति का पैमाना भी है.

खैर, इन सब कारणों से हम लोगो ने निर्णय लिया की हम उस नौकर को आजाद  जाने देंगे. किसी अच्छे काम के लिए की गयी हत्या, हत्या नहीं पुण्य का कार्य है.

हालांकि हमने उस नौकर को सख्त ताकीद दी की आगे से वो किसी वृद्ध दम्पति की हत्या करने के बाद उनकी लाश को जलाये नहीं, इससे प्रदुषण फैलता है.
एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते प्रदुषण और वैश्विक उष्मीकरण (global  warming) को रोकना हमारा कर्तव्य है.

आशा है, इस घटना को पढ़कर आपके मन से कुछ भ्रान्तिया दूर हुई होंगी. पुलिस उतनी बुरी नहीं है जितना उसे समझा जाता है.

आपका,
एक अज्ञात पुलिस-कर्मी.

The same is available here (at the moment of writing, this).

Related posts:

  1. A letter from a great person who chose to suffer instead of paying bribe
  2. Sperm-daan
  3. The story of a GREAT DOLT and a prayer
  4. A private message from a poor man who was forced to pay a bribe
  5. An open letter from yet another victim of scurge of bribery

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

A letter from a great person who chose to suffer instead of paying bribe

March 14th, 2011 by slash_blog

While some networks focus only on showing the negative picture of India, we at 69NN never desist from showing the positive things in life. And to prove that we today bring to you the story of a man who chose great suffering instead of paying bribe. [The letter is right now only in Hindi, but somebody from the translation desk will probably give a translation soon.]

प्यारे मित्रों,

आज भी मेरी आँखें ख़ुशी से छलछला जाती हैं, जब मैं उन क्षणों को याद करता हूँ. मेरा मन गर्व से भर उठता है और ह्रदय में ख़ुशी की एक लहर सी दौड़ जाती है के किस प्रकार मैंने और मेरे दोस्तों ने पुलिस को रिश्वत देने से इनकार कर दिया था.

बात २० साल पुरानी है.
उस रात मै और मेरे दोस्तों ने एक लड़की का बलात्कार (जिसको gang rape भी कहते हैं) किया था. ये तो आप सब लोग जानते ही हैं के बलात्कार करने में बहुत मज़ा आता है – और गैंग रेप की तो बात ही कुछ और है.
खैर, बात को और न भटकते हुए, आपको बताऊँ की आगे क्या हुआ. हमने बलात्कार के बाद उससे बांद्रा की एक सड़क के किनारे छोड़ दिया. आप भी कहेंगे की ये क्या बेवकूफी है बलात्कार के बाद कही लड़की को जिंदा छोड़ा जाता है. पर दोस्तों जवानी चीज़ ही ऐसे होती है, जिसमें आदमी की बुधि भ्रष्ट हो जाती है. यदि हमें फिरसे मौका मिले तो उस लड़की का बलात्कार करने के बाद उसे कभी जिंदा न छोडें. खैर जैसा की कहते हैं, अब पछताए होत क्या, जब चिड़िया चुग गयी खेत.

आगे कहानी बढ़ाते हुए,

तो दोस्तों वो लड़की पुलिस के पास चली गयी – उसपर इस बात का कोई अहसान ही नहीं था की हमने उसे जिंदा छोड़ दिया, धोखेबाज़, कमीनी, अहसान-फरामोश.
पुलिस ने जैसा के होता है, हमसे ५०००० रूपये रिश्वत में मांगे. (वो लोग जो बलात्कार के case में कितनी राशि देनी पड़ सकती है जानने के लिए आये हैं, उन्हें बता याद दिला दूं के ये 2० साल पुरानी घटना है, इससे आज की कीमतों का अंदाजा ना लगाना. आज कल के महंगाई दौर में आपको ३-४ लाख रुपया झटकना पड़ सकता है.)
इसके बाद, हम लोगों ने आपस में विचार विमर्श किया, और इस नतीजे पे पहुचे के हम लोग रिश्वत कतई नहीं देंगे. रिश्वत और भ्रष्टाचार देश की प्रगति में बाधक है. भारत के उज्वल भविष्य को अन्धकार में ले जाने वाला ज़हर है. हमारे प्यारे देशवाशियो के नाम पर एक कलंक है. और हम सब भारत्वशियों को इसका पुरजोर विरोध करना चाहिए.
हम लोगो ने रिश्वत देने से साफ़ इनकार कर दिया. नतीजतन हमें १०-१० साल की सजा हुई.

कुछ लोग शायद इस कहानी पर हंसें और कहें के हम लोग बेवकूफ थे की हमने रिश्वत देने से इनकार कर दिया – और हमें शायद ताने दें. पर देश पर मर मिटने वाले ऐसे लोगो के कटाक्षों और तानों की परवाह नहीं करते. हमें अपने पे गर्व है की हमने अपने कर्तव्य का निर्वहन किया.

यदि आप मित्रों से भी मेरा विनम्र निवेदन है की यदि आप में से किसी ने भी बलात्कार किया है, और पुलिस रिश्वत मांग रही है, तो कतई रिश्वत ना दें और देश की प्रगति में भागिदार बने.

आपका अपना,
अज्ञात

The same is available here (at the moment of writing, this).

Related posts:

  1. A story from other side
  2. A private message from a man who payed bribe of his own will
  3. A private message from a poor man who was forced to pay a bribe
  4. An open letter from yet another victim of scurge of bribery
  5. The story of a GREAT DOLT and a prayer

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

An open letter from yet another victim of scurge of bribery

March 11th, 2011 by slash_blog

Following up on 69NN‘s WOC (War On Corruption), here is yet another letter from a victim of bribery.

Hi everybody,

I paid a bribe to get promoted. Initially my boss asked for Rs 1020000 and 20 paisa. You might be wondering about the amount. Let me explain. See my boss is superstitions (though not too much, but only a little). So he wouldn’t accept Rs 100 as bribe, for example. Instead he would ask for Rs 101. Now, he asked me Rs 10,00,001 as bribe. Add to that a service tax of 2% (which any honest man would give), and we get the figure of Rs 10,20,000 and 20 paisa. Now, the bastard is so honest, that he wouldn’t even let go 20 paisa, and he told me that as a matter of principal everybody must pay all their taxes down to the last paisa – even on bribe! But, when it comes to money, I am no lesser dog, I asked for my 80 paisa back. And he couldn’t give me back 80 paisa.

So in the end we settled for my wife sleeping with him for 7 days – to pay the amount in kind. You see from what I have gathered, there are no taxes for payment done ‘in kind’. In the end, all turned out well, as I got my promotion letter today.

Thank you,
for all the words of encouragement,
than I am sure you will be giving to me.

The same is available here (at the moment of writing, this).

Related posts:

  1. A private message from a man who payed bribe of his own will
  2. A private message from a poor man who was forced to pay a bribe
  3. A letter from a great person who chose to suffer instead of paying bribe
  4. An Open Love Letter to Suhel Seth
  5. A story from other side

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...